शोध और नवाचार

प्रदेश में चार इन्क्यूबेशन सेंटर्स की स्थापना की गई है:

  • आई0 ई0 टी0 लखनऊ
  • एच0बी0टी0यू0 कानपुर
  • यू0पी0टी0टी0आई0 कानपुर
  • एम0एम0एम0टी0यू0 गोरखपुर
  • प्रथम चरण में 25 अन्य संस्थानों में इनक्यूबेशन और इनोवेशन सेंटर्स की स्थापना का कार्य योजना में है। इसके लिए रू.17.95 करोड़ का प्रावधान 2016-17 के लिए कर लिया गया है।
  • विश्वविद्यालय में गुणवत्तापरक शोध के लिए प्रथम चरण में 15 रिसर्च सेंटर्स की स्थापना की गयी है।
  • पी-एच0 डी0 एवं एम0 टेक0 का नया एवं प्रासंगिक आर्डिनेंस लागू किया गया है।

विश्वस्वरैया रिसर्च प्रमोशन स्कीमः

विश्वविद्यालय के सम्बद्ध संस्थानों के शिक्षकों को एक नई सौगात मिली है। विश्विद्यालय के सम्बन्द्ध संस्थानों में पढ़ा रहे शिक्षकों को शोध से जोडने के लिए विश्वस्वरैया रिसर्च प्रमोशन स्कीम को लांच किया गया है, जिसके तहत वर्ष -2017 में विश्विद्यालय के विभिन्न सम्बद्ध संस्थानों के शिक्षकों से 29 प्रस्ताव प्राप्त हुए थे, जिसमें विषज्ञों की कमेटी द्वारा स्क्रीनिंग के उपरांत 8 बेहतर प्रस्तावों को ग्रांट की संस्तुति की गयी है। विश्वस्वरैया रिसर्च प्रमोशन स्कीम के तहत चयनित प्रत्येक प्रस्ताव को अधिकतम 5 लाख रूपए की ग्रांट प्रदान करने की संस्तुति की गयी है। साथ ही, दूसरे चरण में विशेषज्ञों की कमेटी द्वारा स्क्रीनिंग के उपरांत 13 बेहतर प्रस्तावों को ग्रांट की संस्तुति की गयी है।

सेमिनार ग्रांट

इस स्कीम के तहत 54 प्रस्ताव विभिन्न सम्बद्ध संस्थानों से प्राप्त हुए थे जिसमें से विशेषज्ञों की कमेटी द्वारा स्क्रीनिंग के उपरांत 24 बेहतर प्रस्तावों को ग्रांट की संस्तुति की गयी है । सेमिनार ग्रांट के तहत चयनित प्रत्येक प्रस्ताव को अधिकतम 1 लाख रूपए की ग्रांट प्रदान करने की संस्तुति की गयी है।

ट्रेवल ग्रांट:

इस स्कीम के तहत 54 प्रस्ताव विभिन्न सम्बद्ध संस्थानों से प्राप्त हुए थे जिसमें से विशेषज्ञों की कमेटी द्वारा स्क्रीनिंग के उपरांत 4 बेहतर प्रस्तावों को ग्रांट की संस्तुति की गयी है। ट्रेवल ग्रांट के तहत चयनित प्रत्येक प्रस्ताव को अधिकतम 1 लाख रूपए की ग्रांट प्रदान करने की संस्तुति की गयी है।

सीवी रमन टीचिंग असिस्टेंस प्रोग्रामः

इस योजना के तहत विश्वविद्यालय के एम.टेक के 50 छात्रों को टीचिंग असिस्टेंट के तौर पर चयनित किया जाएगा। जो विश्वविद्यालय के सम्बद्ध संस्थानों में शिक्षण का कार्य करेंगे। इस दौरान इन्हें स्टाइपेंड दिया जाएगा। प्राइवेट संस्थानों में इसका 50 फीसदी पैसा विश्वविद्यालय देगा एवं 50 फीसदी उस संस्थान को देना होगा।

होमी भाभा टीचिंग असिस्टेंस प्रोग्रामः

इस योजना के तहत पी0एच0डी0 के 50 छात्रों को टीचिंग असिस्टेंट के तौर पर चयनित किया जाएगा। जो विश्वविद्यालय के सम्बद्ध संस्थानों में शिक्षण का कार्य करेंगे। इस दौरान इन्हें स्टाइपेंड दिया जाएगा। इस योजना में भी प्राइवेट संस्थानों में इसका 50 फीसदी पैसा विश्वविद्यालय देगा एवं 50 फीसदी उस संस्थान को देना होगा।