माननीय मंत्री जी का संदेश

श्री आशुतोष टंडन
  • श्री आशुतोष टंडन "गोपाल जी"
  • माननीय मंत्री
  • प्राविधिक शिक्षा विभाग

शिक्षा व्यक्तित्व निर्माण की प्रणेता है। हमेशा से छात्र - छात्राओं का उच्च एवं व्यवसायिक शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य अपने कौशल को निखार कर रोजगार प्राप्त करने का रहा है। प्रदेश की प्राविधिक शिक्षा को सृजनात्मक, कौशल क्रियात्मक और रोजगारपरक बनाने के लिए प्रदेश की वर्तमान सरकार प्रतिबद्ध है। प्राविधिक शिक्षा में सृजनात्मकता और कौशल क्रियात्मकता के पुट को मूर्तरूप प्रदान करने के लिए प्राविधिक विश्वविद्यालय में कलाम इनोवेशन सेंटर के स्थापना की गयी है। साथ ही साथ प्राविधिक शिक्षा में नए रोजगार के अवसरों के सृजन के लिए प्रदेश के विभिन्न तकनीकी संस्थानों में इनोवेशन सेंटर्स एवं सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना की जा रही है। प्रदेश के तकनीकी संस्थानों के छात्र - छात्राओं को बहुराष्ट्रीय कंपनियों में रोजगार के बेहतर अवसर प्रदान करने के लिए केंद्रीयकृत रोजगार मेलों का आयोजन किया जा रहा है। हर्ष का विषय है कि इस वर्ष प्रदेश के तकनीकी शिक्षण संस्थानों में अध्ययनरत हजारों छात्र-छात्राओं को कैंपस सलेक्शन के द्वारा रोजगार प्राप्त हुआ है। तकनीकी शिक्षा के कार्यो में पारदर्शिता लाने के लिए तकनीकी शिक्षण संस्थानों के कार्यो का डिजिटलाइजेशन किया जा रहा है। प्रदेश की प्राविधिक शिक्षा छात्र-शिक्षक उन्मुखी बन सके इसके लिए शोध एवं नवाचारों हेतु विभिन्न अनुदानिक योजनाओं का शुभारंभ किया गया है। छात्र-छात्राओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने हेतु स्टार्ट-अप के माध्यम से बहुराष्ट्रीय कंपनियों के द्वारा इन्वेस्टमेंट प्रदान किया जा रहा है।

गुणत्तापरक तकननीकी शिक्षा की सुनिश्चितता के लिए नए एवं योग्य शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया संचालित की जा रही है। प्रदेश की तकनीकी शिक्षा को विश्वस्तर पर पहचान दिलाने के लिए प्रदेश सरकार हर संभव प्रयास कर रही है।
सधन्यवाद