दीनदयाल उपाध्याय क्वालिटी इम्प्रूवमेंट प्रोग्राम

पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्मशती के उपलक्ष्य में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्विद्यालय उत्तर प्रदेश लखनऊ  सरकारी सहायतित सम्बद्ध तकनीकी संस्थानों व सरकारी तकनीकी विश्वविद्यालयों की गुणवत्ता सुधार हेतु इस योजना को शुरु किया गया है। विश्वविद्यालय द्वारा शुरू की जा रही इस योजना के मूल उद्देश्य निम्नलिखित हैः

  • चयनित संस्थानों में इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं  प्रयोगशालाओं का सुदृढ़ीकरण व उच्चीकरण।
  •   शोध को बढ़ावा देना।
  •   अक्षय ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देना।
  •   छात्र-छात्राओं के लिए अधिक रोजगार के अवसर प्रदान किया जाना।
  • ई-संसाधनों का विकास।
  • दिव्यांगों हेतु सुविधाओं का विकास।

पंडित दीन दयाल उपाध्याय गुणवत्ता सुधार योजना के अन्तर्गत दी जाने वाली धनराशिः

  • डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय से सम्बद्ध संस्थान एवं उन्हें अवमुक्त की जाने वाली धनराशि-
    • इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी -25 करोड़
    • कमला नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी सुल्तानपुर-15 करोड़
    • बुन्देलखंड इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी झांसी-15 करोड़
    • उत्तर प्रदेश टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट कानपुर-10 करोड़
    • फैकल्टी ऑफ आर्कीटेक्चर ए.के.टी.यू. लखनऊ-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज बांदा-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज बिजनौर-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज आजमगढ़-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज अम्बेडकरनगर-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज कन्नौज-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज मैनपुरी-10 करोड़
    • राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज सोनभद्र-10 करोड़
    • उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन एकेटीयू लखनऊ -10 करोड़
    • सेंटर फॉर एडवांस स्टडीज ए.के.टी.यू. लखनऊ-15 करोड़
  • तकनीकी विश्विद्यालय
    • मदन मोहन मालवीय यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी गोरखपुर-15 करोड़
    • हरकोर्ट बटलर टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी कानपुर-15 करोड़

यह योजना तीन वर्षों की होगी जिसमे उत्तर प्रदेश के विभिन्न राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं तकनीकी विश्वविद्यालयों को धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी। धनराशि का उपयोग निम्न मदों के अन्तर्गत किया जाएगा-

इन्फ्रास्ट्रक्चरः

कुल धनराशि का 60 प्रतिशत निम्नलिखित पर व्यय होगा-

  • सोलर प्लांट
  • बागवानी
  • छात्रावासों का अनुरक्षण
  • छात्रावासों के किचन का आधुनिकीकरण
  • प्रयोगशालाओं का उच्चीकरण
  • उपकरणों का रख रखाव
  • दिव्यांगों हेतु सुविधाएँ

डिजिटलीकरण शोध एवं रोजगार को बढ़ावा देने सम्बन्धी योजनाएं-

कुल धनराशि का 40 प्रतिशत निम्नलिखित पर व्यय होगा-

  • आटोमेशन /गवर्नेंस
  • ई-शोध-सिन्धु परियोजनाओं से जरनलों की खरीद
  • साराभाई शोध योजना
  • MOOC’S का निर्माण
  • डिजिटल टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने का कार्य
  • ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल का सुदृढ़ीकरण