उपलब्धियां

  • शैक्षणिक सत्र 2018-19 से प्रवेश की प्रक्रिया में सुचिता के दृष्टिगत SEAL (Secure, Efficiant Azile and Leak Proof) टेक्नाॅलाजी का प्रयोग किया जा रहा है।
  • विभिन्न संस्थानों एवं उद्योगों की आवश्यकताओं के दृष्टिगत 74 विधाओं में शिक्षण-प्रशिक्षण कराये जाने की व्यवस्था है।
  • वर्ष 2019-20 सरकार की योजना के अनुसार सामान्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ई0डब्लू0एस0) को 10 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने की व्यवस्था की गई।
  • छात्र/छात्राओं को संस्था कैम्पस में वाई-फाई की सुविधा रिलायंस जियो के मा.यम से प्रदान किये जाने हेतु 96 संस्थाओं में एम0ओ0यू0 किया गया, जिनमें से 69 संस्थाओं में उक्त सुविधा प्रदान की जा रही है।
  • व्याख्यानों के आॅनलाइन प्रसारण हेतु 47 पालीटेक्निकों में वर्चुअल क्लासरूम्स की स्थापना की जा चुकी है।
  • वर्ष 2017-18 में GEM से क्रय प्रक्रिया हेतु प्राविधिक शिक्षा विभाग को State Gem Award-2018 भी प्राप्त हुआ।
  • विगत दो वर्षों से डिप्लोमा सेक्टर में उत्तीर्ण छात्र/छात्राओं को उसी वर्ष में डिप्लोमा प्रदान किये जाने हेतु दीक्षान्त समारोह का आयोजन प्रारम्भ किया गया।
  • सेमेस्टर परीक्षा उपरान्त 45 दिनों के अन्दर परीक्षा परिणाम निर्माण कराकर घोषित किया जा रहा है।
  • तकनीकी प्रतिभा सम्मान समारोह में मेधावी 180 छात्र/छात्राओं को प्रोत्साहन स्वरूप रू0 10,000/- प्रथम स्थान, रू0 9,000/- द्वितीय स्थान तथा रू0 8,000/- तृतीय स्थान पाने वाले छात्र/छात्राओं को मा0 मुख्यमंत्री जी के करकमलों द्वारा प्रदान कर सम्मानित किया गया।
  • दिनांक 17.02.2019 को मा0 मुख्यमंत्री जी के करकमलों द्वारा 75 परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया, जिसमें 05 पालीटेक्निक, 14 छात्रावास, 08 अन्य भवन, 08 संस्थाओं में सोलर पावर प्लाण्ट, 15 संस्थाओं में वर्चुअल क्लासरूम तथा 25 संस्थाओं में कम्प्यूटर लैब की स्थापना का लोकार्पण किया गया।
  • सक्षम बालिका सम्पन्न परिवार योजना के अन्तर्गत 2016-17 एवं 2017-18 के 4096 छात्र/छात्राओं को रू0 10,000/- प्रति छात्रा की दर से मा0 मुख्यमंत्री जी के करकमलों द्वारा वितरित किया गया।
  • संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद, उ0प्र0, लखनऊ के वर्ष 2018 के प्रथम 100 रैंक प्राप्त अभ्यर्थी, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति संवर्ग के प्रथम 100 रैंक प्राप्त अभ्यर्थी एवं प्रथम 100 रैंक प्राप्त बालिकाओं को मा0 मुख्यमंत्री जी के करकमलों द्वारा लैपटाॅप प्रदान किये गये।
  • प्रौद्योगिकी, उद्योग एवं प्रबन्ध के क्षेत्र में हो रहे त्वरित विकास व रचनात्मक परिवर्तनों के परिप्रेक्ष्य में तकनीकी शिक्षा की प्रासंगिकता व गुणवत्ता सुनिश्चित करने हेतु वर्ष 2017-18 में एन0एस0क्यू0एफ0 आधारित 06 पाठ्यक्रम तैयार कर लागू कराये गये और वर्ष 2018-19 से 06 नये पाठ्यक्रम लागू किये गये।
  • वर्ष 2018-19 में 1099 शिक्षकों की गुणवत्ता में वृद्धि हेतु विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों में नामित कर प्रशिक्षित किया गया तथा वर्ष 2019-20 में 1300 शिक्षकों को प्रशिक्षित किये जाने की योजना है।
  • छात्र/छात्राओं को अधिकाधिक रोजगार सुनिश्चित कराने हेतु संस्था स्तर पर प्लेसमेन्ट सेल, क्षेत्रीय स्तर पर 10 क्षेत्रीय प्लेसमेन्ट सेल (आर0पी0सी0) स्थापित किये गये हैं तथा राज्य स्तर पर संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद में राज्य स्तरीय प्लेसमेन्ट सेल (एस0टी0पी0सी0) की स्थापना की गयी है जिस हेतु मेधा लर्निंग फाउण्डेशन से अनुबन्ध किया गया है। इस एजेन्सी के मा.यम से शैक्षिक सत्र 2019-20 से सभी 147 संचालित राजकीय पालीटेक्निकों में साफ्ट स्किल को बढ़ाने हेतु वर्कशाप, सेमिनार, इण्डस्ट्रियल विजिट के साथ रोजगार मेला और विभिन्न कम्पनियों के कैम्पस इण्टरव्यू आयोजित किया जायेगा।
  • डिप्लोमा स्तरीय छात्र/छात्राओं में रोजगार वृद्धि हेतु अध्ययनरत छात्र/छात्राओं को निःशुल्क साफ्ट स्किल इण्टरव्यू हेतु तैयारी तथा ओवरआल पर्सनालिटी डेवलपमेन्ट हेतु नान्दी फाउण्डेशन, हैदराबाद एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग (डिप्लोमा सेक्टर) के मध्य दिनांक 17.02.2019 को मा0 मुख्यमंत्री जी के समक्ष एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदान किया गया जिसके द्वारा छात्र/छात्रायें लाभान्वित हो रहे हैं।
  • अध्ययनरत छात्र/छात्राओं को निःशुल्क कम्प्यूटर ऐडेड डिजाइन एण्ड ड्राफ्टिंग विषय में प्रशिक्षण प्रदान किये जाने हेतु कैड सेन्टर चेन्नई एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग (डिप्लोमा सेक्टर) के मध्य दिनांक 15.02.2019 को मा0 मुख्यमंत्री जी के समक्ष एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदान किया गया, जिसके द्वारा छात्र/छात्राओं को लाभ प्राप्त हो रहा है।